शहीद-ए-आज़म सरदार भगत सिंह …

शहीद-ए-आज़म सरदार भगत सिंह को नमन उनके जन्मदिवस पर —

समर्पित है मेरा एक छोटा सा प्रयास …
★ वो भगत सिंह थे … ★
आज़ादी के रवानी में, लहू उसने भी बहाई थी,

सबकी आज़ादी के खातिर, आज़ादी अपनी ठुकराई थी …
क्राँति की अलख जगाने को, त्यागी अपनी रिहाई थी,

ऊँचा कर मान तिरँगे का, सिर दुश्मनों की झुकाई थी …

वो भगत सिंह थे …
उम्र थी जब, गिल्ली-डंडे की, तब छेड़ी उसने लड़ाई थी,

एक मुट्ठी में बम-गोले, तो एक में ‘शरारत’ छुपाई थी …
बन्दूक थी मोटी कहीं उससे, जितनी मोटी कलाई थी,

पर देख कौशल उस युवा की, तानाशाही घबराई थी …

वो भगत सिंह थे …
भाग्य देखो उन बेड़ियों के, जो उनको छूने पाई थी,

फाँसी के नादां फंदे भी, तो देख उन्हें हर्षाई थी …
है वीर चला मुझे छोड़ सोच, काल-कोठरी भी अकुलाई थी,

हो विभोर ‘भगत’ की देशभक्ति से, दिन फाँसी की अलसाई थी …

वो भगत सिंह थे …
पीड़ा उनको लिखने वाली, वो क़लम भी कतराई थी,

शरमा रही थी जिस तक जाने से, खुद ही जिसकी कठिनाई थी …
मार देने, या मर जाने की, बस धुन जिसमे समाई थी,

हुँकार सम्पूर्ण भारतवर्ष का, बहरों को जिसने सुनाई थी …

वो भगत सिंह थे …
व्याकुल है मन, यही सोच-सोच –
पुण्य क्या उस कुँए का, पानी जिसने पिलाई होगी,

भाग्य क्या उस कतरन का, लहू-आँसू से जिसे भिगाई होगी,

मुक़द्दर क्या उस फंदे की, जिसको गले उसने लगाई होगी,
थी आज़ादी जिसकी दुल्हन, उसको भी सौंप, वे चले गए,

ज़वानी अपनी, अपना मन, अपनी प्राण झोंक वे चले गए …
#नमन #शहीद_ए_आज़म #भगत_सिंह

                🙏🙏🙏
© Kumar Sonal

Advertisements

3 thoughts on “शहीद-ए-आज़म सरदार भगत सिंह …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s